fbpx

Computer Notes In Hindi | Computer Notes Book In Hindi

0

Computer Notes in Hindi | कंप्यूटर नोट्स हिंदी में

नमस्कार दोस्तों आज के हमारे इस लेख में हम आपके लिए Computer Notes, Basic Computer Notes For Students , Computer Notes लेकर आपके समक्ष प्रस्तुत हुए है जैसा की आप सब भलीभांति अवगत है की अभी बहुत सारी सरकारी नौकरिया आयी हुई है कुछ की तो परीक्षा हो गयी है और कुछ एक्साम्स अभी होने बाकी है और इनमे से लगभग हर एक्साम्स में Computer से सम्बंधित कंप्यूटर परीक्षा में प्रश्न पूछे जायेंगे इन सभी बातो को ध्यान में रखते हुए हमने आपके लिए एनसीईआरटी कंप्यूटर बुक, Basic Computer Notes, कंप्यूटर नोट्स इन हिंदी, कंप्यूटर के बारे सम्पूर्ण जानकारी जो की आपके लिए उपयोगी सिद्ध हो सकती है और हम ये पुरे विश्वाश के साथ कह सकते है की यह नोट्स पढ़ने के बाद आपका अपने आप पर विश्वाश और Confidence level बढ़ जायेगा इस लिए आप एक बार ये नोट्स जरूर जरूर पढ़ें

Computer Important Notes in Hindi  ||  Computer Notes in Hindi and English

दोस्तों अगर आपको इतने महत्वपूर्ण नोट्स की आवश्यकता है और आपको अभी तक ऐसे और इतने महत्वपूर्ण Notes प्राप्त नहीं हुए है। तो अब आपको चिंता करने को कोई जरुरत नहीं हमने आप की इस समस्या का समाधान कर दिया है और आपके लिए और आपके साथ कंप्यूटर नोट्स इन हिंदी में साझा करके आपकी सहायता करने की कोशिस कर रहे है। जिससे आपको Computer की पीढ़िया के बारे में Computer की उत्त्पति कैसे हुई  Computer के Software तथा Hardware के बारे में, तथा और भी अनेको प्रकार की जानकारिया बहुत ही आसानी से मिल पाएगी। और उसका फायदा ये होगा की आप लोग Computer से सम्बंधित सभ प्रश्नो के Answer बड़े ही आसानी से और फटाफट दे पाओगे। 

Computer Handwritten Notes in Hindi | कंप्यूटर बुक इन हिंदी 

 

कंप्यूटर के कुछ महत्वपूर्ण कम्पोनेंट्स की संक्षिप्त में व्याख्या Computer Notes for Competitive Exams Notes in Hindi

आइये अब जानते है कंप्यूटर के कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण कम्पोनेंट्स के बारे में जिनका कंप्यूटर में बहुत जयदा इम्पोर्टेंस होती होती है। जिनके बिना कंप्यूटर पूर्ण रूप से कार्य नहीं कर सकता और न ही वह पूरा कंप्यूटर कहलाता है और न ही हम इनके बिना कार्य कर सकते है। और इनसे जुड़े हुए भी काफी प्रश्न परीक्षा में पूछे जा सकते है तो आप इनका अच्छे से अध्यन्न कर ले चलिए अब जानते है इन कुछ महत्वपूर्ण पार्ट्स (Parts) के बारे में निम्न प्रकार से है।

(1) Central Processing Unit – (सेंट्रल प्रोसेसिंग)

  1. Arithmetic logic unit (ALU) – अर्थमेटिक लॉजिक यूनिट (ए. एल.यु.) – हमारे दिमाग का कार्य सोचने और समझने का होता है। बिलकुल उसी प्रकार ALU यानि अर्थमेटिक लॉजिक यूनिट का कार्य भी सोचने और समझने का ही होता है। या फिर आप इसको इस तरह से समझ लीजिये की ALU को कंप्यूटर का दिमाग के रूप में माना जाता है जो सारे कार्य करता है। ये एक प्रोसेसर होता है जैसे हमारे मोबाइल में होता है जिसका कार्य सोचने समझने का होता है। इनके तीन प्रमुख घातक होते है इसमें मेमोरी यूनिट और कंट्रोल यूनिट को भी शामिल किया हुआ है। ये सभी प्रमुख घातक होते है सेंट्रल प्रोस्सिंग के । इसका मुख्य कार्य कंप्यूटर में अंकगणितीय से सम्बंधित जो भी कार्य या प्रोस्सिंग होती या इनकी गणना होती है वो सब इसके दुवारा ही होती और भी अनेको कार्य जैसे की तर्क से सम्बंधित कार्य भी ALU यानि की अर्थमेटिक लॉजिक यूनिट के द्वारा किये जाते है ।

एनसीईआरटी कंप्यूटर बुक || Computer Notes in English

  1. Control Unit – कंट्रोल यूनिट (CU) – ये CPU का एक बहुत ही महत्वपूर्ण भाग होता है जैसे की आपको नाम से भी समझ आ गया होगा की Control Unit यानि की Control करने वाली इकाई इसको हम Control इसके के नाम से जानते है।  ये इसके CPU जिसको हम Central Processing Unit भी कहते है उसमे कार्य करती है। इसमें हमारे द्वारा जो भी डाटा इनपुट किया गया है उसको कहा पर सुरक्षित करना है कहा से लेना है प्रिंट निकालने तक तक का सारा कण्ट्रोल इसी के दवारा किया जाता है ।तो यह कंप्यूटर का एक अत्यंत ही जरुरी और महत्वपूर्ण और उपयोगी इकाई होती है इसकी भी सम्पूर्ण जानकारी आपको PDF में मिल जायेगी ।

Monitor (मॉनिटर) –

मॉनिटर कंप्यूटर के लिए बहुत ही खाश पार्ट है क्यों की हम कम्प्यूटर पर कोई काम करते है जैसे कोई मटर टाइप करना या कोई प्रोजेट पर कार्य करना तो हमें हमरे कार्य का रिजल्ट्स मॉनिटर यानि की डिस्प्ले पर दीखता रहता है। जिस से है सही गलत का पता लगता रहता है और हम आसानी से कार्य कर सकते है। इस लिए मॉनिटर बहुत जरुरी होता है और मॉनिटर आउटपुट डिवाइस में आता है। मॉनीटर कई प्रकार के हो सकते है पहले के समय में सिर्फ CRT Monitor ही हुआ करते थे अब तो ये LCD या LED के रूप में भी आने लगे है।

Mouse (माउस) –

Mouse के बारे में तो आपको पता ही होगा की माउस के माध्यम से हम कंप्यूटर में काम बड़े ही आसानी से करते है। जैसे किसी फाइल को ओपन करने में, नए विंडो या प्रोग्राम को ओपन या बंद करने के लिए, किसी मैटर को सेलेक्ट करने के लिए या फिर कर्सर को ऊपर निचे दाए और बाए ले जाने जाने के लिए भी हम माउस का प्रयोग करते है। जिस से हम काम समय में और आसानी से कार्य कार्य कर सकते है पहले माउस सिर्फ PC2 ही गए करते थे। पर जैसे जैसे नयी नयी तकनीक आयी वैसे वैसे USB Mouse आने लगे फिर उसके बाद में Bluetooth माउस भी आने लगे जिस से हम बिना तार के भी और कुछ दुरी पर बैठे हुए भी कंप्यूटर पर कार्य कर सकते है।

Keyboard (की-बोर्ड) –

keyboard ये तो काफी जयदा Importance रखता है। कंप्यूटर के लिए क्यों की अगर हमें कंप्यूटर पर कुछ टाइप करना है या फिर कंप्यूटर को और भी आदेश देना है या फिर उसमे कोई कोडिंग करनी है तो उसके लिए हमें keyboard की आवश्यकता होती है। बिना keyboard के ये सब करना असंभव होता है। कंप्यूटर में कुछ प्रोग्राम ऐसे होते है जो बिना कीबोर्ड के हम कर ही नहीं सकते है। जैसे की अगर हमें अपना कंप्यूटर फॉर्मेट करना कहते है और उसमे नए विंडो डालना चाहते है तो उसके लिए हमें बायोस में आने के बाद में हमें सारे कमांड कीबोर्ड के द्वारा ही देने होते है। उस समय माउस से कोई भी कार्य नहीं किया जा सकता है अब आपको कीबोर्ड के महत्वता समज आ गयी होगी। 

Hard Disk (हार्डडिस्‍क) –

हार्ड डिस्क का मुख्य कार्य डाटा को संगृहीत करने के लिए होता है जिमे साड़ी फाइल्स स्टोर रह सके। जैसे हमारी बॉडी में हमारा मस्तिष्क हमारी साड़ी मेमोरी को स्टोर रखता है। जैसा की आपको पता ही होगा की हम कंप्यूटर में जितने भी कार्य करते है वो सभी हार्डडिस्क में सेव होते है। जैसे की अगर हम कंप्यूटर में विंडो इनस्टॉल करते है तो उसकी साड़ी फाइल्स हार्डडिस्क में ही सेव रहती है। जिस से वह प्रोग्राम कार्य करते है वैसे ही अगर हमें अगर कोई एक्सेल शीट तैयार करनी होती है तो उसके लिए हमें MS Office सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को अपने सिस्टम में लोड करना होता है। और लोड होने के बाद वो सारी ऑपरेटिंग फाइल्स हार्डडिस्क में सेव हो जाती है और वह प्रोग्राम कार्य करने लग जाता है।

Computer Memory (कंप्‍यूटर मैमोरी) –

कंप्यूटर में भिन्न भिन्न प्रकार की मेमोरी होती है और हर एक मेमोरी का अलग अलग और भिन्न भिन्न समय के लिए मेमोरी को सुरक्षित रखने का कार्य किया जाता है जो निम्न प्रकार से होते है  Primary Memory (प्राइमरी मेमोरी), Secondary Memory (सेकेंडरी मेमोरी), Register Memory (रजिस्टर मेमोरी), Cache Memory (कैश मेमोरी) इन सभी का कार्य अलग अलग होता है इनमे से तो कुछ मेमोरी में तो शार्ट टाइम के लिए डाटा सेव रहता है ो कुछ में जब तक हम रखना चाहे तब तक डाटा सेव रहता है कुछ मेमोरी तो ऐसी होती है जिसको है समय समय पर इरेस करते रहना होता है जिस से की कंप्यूटर की स्पीड कम नहीं हो इन सब के बारे में आपको पूर्ण जानकारी पीडीऍफ़ में मिल जाएगी इस लिए आप इनको ध्यान से देखे

Output Device (आउटपुट डिवाइस) –

आउटपुट डिवाइस का मुख्य कार्य होता है की हमें रिजल्ट्स दिखाना जैसे की हमारा मॉनिटर हो गया हम कंप्यूटर पर जो भी कार्य करते है वो सब हमें डिस्प्ले पर दीखता रहता है जिस से हम आसानी से कार्य कर सकते है वैसे ही प्रिंटर हो गया हमें कंप्यूटर पर अपना कार्य कर लिया और बाब हमें उसका प्रिंट या हार्ड कॉपी चाहिए तो उसके लिए हमें प्रिंटर की आवश्यकता होती है जो हमें प्रिंट निकल कर दे सके इस लिए आउटपुट डिवाइस की भी अत्यंत महत्वता होती है वैसे ही और भी कई प्रकार के आउटपुट डिवाइस होती है जिनकी अलग अलग जगहों पर भिन्न भिन्न प्रकार से आवश्यकता होती है ।

Input Device (इनपुट डिवाइस) –

इनपुट डिवाइस कंप्यूटर के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है क्यों की इनके द्वारा ही हम कंप्यूटर को instruction देते है की उसकको क्या काम करना है उदहारण के तोर पर हम आपको कुछ मह्त्वपूण इनपुट डिवाइस के नाम बता रहे है जैसे माउस, की-बोर्ड आदि होते है  जैसे की माउस – अगर हमें कही पर क्लिक करना होता है या कोई फोल्डर या फाइल ओपन करनी होती है तो उसके लिए हमें माउस की आवश्यकता होती है बिल्कु वैसे ही की – बोर्ड के दुवारा भी हम फाइल फोल्डर ओपन और क्लोज कर सकते है ये की हम की – बोड के द्वारा भी कंप्यूटर को आदेश दे सकते है कोई काम को करने के लिए इनपुट डिवाइस के बिना आदेश देना असंभव होता है

Computer Handwritten Notes in Hindi
Leave A Reply

Your email address will not be published.