fbpx

Environment Notes In Hindi For Competitive Exams

0

Environment Notes In Hindi For UPSC, SSC, RAILWAY

नमस्कार 

आज हम दोबारा आपके लिए :- Environment Notes In Hindi आपके लिए साझा करने आये है इस Environment Notes For SSC, Environment Handwritten Notes in HindiEnvironment Notes for UPSC 2020 आदि के नोट्स का संग्रह में हम आपके लिए पर्यावरण की पूरी जानकारी लेकर आये है इसमें हम आपको इसकी जानकारों देंगे और इसमें आपके लिए कुछ Environment Handwritten नोट्स भी अलग से तैयार किये है जिसको आप यहाँ पर पढ़ सकते है और इसमें हमने कुछ  Question Answer on Environment भी आपके लिए बनाये है ये सभी आपकी  सुविधा और जरूरतों को देखते हुए हम हमारी ऑनलाइन मंच यानि की PDFGOVTEXAM पर समय समय पर डालते रहते है और मेरे साथियो हम आपके लिए Notes और अत्यंत ही Important Question और उनके उतर की आपको उपलब्ध करवाते रहते है 

Environment Pollution Notes || Ghatan Chakra Environment in Hindi

Environment Handwritten Notes in English:- दोस्तों पर्यांवरण का साफ़ सुथरा रखना हमारे लिए बहुत जरुरी है अगर हम इसका ध्यान और साफ़ सुथरा रखेंगे तो हम सब के लिए बहुत अच्छा होगा नहीं तो हमें इस से होने वाले बुरे और खतरनाक दुष्परिणामों को भुगतना पड़ेगा इसके लिए Environmental Engineering Notes, Environment Notes, Environment in Hindi And English आपके लिए लाये है ताकि आप इनको पढ़ कर सब कुछ बहुत अच्छे से जान सको और इसका एक और फायदा है की इनमे से Question बहुत सरे सरकारी एक्साम्स में आते है तो आपके उसकी तयारी भी साथ ही में हो जाएगी,तो वादा करिये की आप सब इन Environment Objective Questions in Hindi Notes Book, Environment Notes For SSC GD के हस्तलिखित नोट्स को पढ़ेंगे।

Question Answer on Environment || Environment Quiz Questions and Answers 

 

Environment Notes In Hindi For Competitive Exams

 

Environment Book in Hindi || Environment Short Notes

दोस्तों, जैसे की आपने हमारे इस से पहलेवाली पोस्ट को पढ़ा होगा जिसमे हमने पर्यावरण प्रदुषण के के बारे में कुछ सामान्य जानकारी दी थी। और उसके साथ पर्यावर प्रदूषण कोनसी कोनसी वजह से होता है और उसकी वजह से क्या क्या प्रभाव पड़ता है। वो भी आपके साथ साझा किया था वो सब वजह और प्रभाव हमने आपको Environment की (Environment Notes in Hindi) इस पोस्ट में बताया था। जिसमे में  से सबसे पहला कारण और और उस से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में बताया था। और वो पहला कारण जल प्रदूषण था आज हम आपके लिये उसी प्रदूषण के अगले कारण और उस से होने वाले दुष्प्रभावों के के बारे में ज्ञान साझा करेंगे तो आइये चलते है। अगले बिंदु की तरफ जिसका नाम है जल प्रदुषण ।

जल प्रदुषण होने के मुख्य और प्रमुख कारण

इसका तात्पर्य या अर्थ होता है की जल में पाए जाने वाले या मिले हे अवांछित और नुकसानदायक  तत्वों का जल में उपस्थित होने के कारण जल का प्रदूषित हो जाना जिसके कारण वह पानी पिने योग्य नहीं रह जाता है उसे हम जल प्रदूषण कहते है।

जल प्रदूषण के मुख्य या प्रमुख के कारण निम्न प्रकार के होते है  –

 

  1. इसमें सबसे पहले हम बात करते है हम मनुष्य के द्वारा मल-मूत्र और हमारे द्वारा की गयी गंदगियों का नदिया और नहरों आदि से डाल देना जिसकी वजह से नदियों और नहरों का पानी दूषित हो जाता है।
  2. अब है दूसरे कारण के बारे में बात करते है और वो है हमारे यह पर सीवर लाइन तथा सफाई की सही और उचित ढंग से व्यवस्था नहीं होना जिसके वजह से गंदगी एकत्रित होती रहती है इस लिए जजल पर्युषणरोकने के लिए साफ़ सफाई और सीवर लाइन का साफ़ रहना भी काफी जरुरी है।
  3. आइए अब हम इसके तीसरे कारण के बार में बात करते है हमारे यहाँ पर औद्योगिक क्षेत्र और इकाईया बहुत है और उन सब की एकत्रित हुए कचरे तथा केमिकल से युक्त पानी को नहरों तथा नदियों में छोड़ दिया जाता है जिसकी वजह से जल प्रदूषण काफी हद तक बढ़ जाता है जिसका दुष्परिणाम हम सब भुगत रहे है।
  4. जल प्रदूषण का चौथा कारण है खेती में प्रयुक्त होने वाले जहरीले रसायनो और खादों का पानी में मिल जाना पहले हमारे यह पर रासायनिक खादों का प्रयोग नहीं के बराबर होता था परन्तु आज यह बहुत आधी बढ़ गया है यह भी एक कारण है जल प्रदूषण का जो बहुत घातक है।
  5. जल प्रदूषण का यह पांचवा कारण है जिसकी वजह से भी जल प्रदूषण हो रहा है जिसमे हमारी आस पास की नदियों या बड़ी नदियों में कूड़े कचरे को दाल दिया जाता है अभी हमने कुछ समय पहले भी देखा था की मानव शवों को भी पवित्र नदियों में दाला जाने लगा था तथा कुछ ऐसी प्रथाएं है जो बहुत समय पहले से चली आ रही है और उन प्रथाओं का पालन करने के लिए हमारे घरो में काम में आने वाली घरेलु वस्तुओ या सामग्री को जो हमारे घर या जगह के जो सबसे करीब जल स्रोतों में प्रवाहित कर दिया जाता है या उनका विसर्जन कर दिया जाता है ।
  6. ये छठा कारण भी बड़ा ही घातक सिद्ध हो रहा है जिसमे हमने हमरे घरो का पानी गंदे नालो से सिवारो में छोड़ दिया जाता है तथा उसकी पानी को फिर नदियों में छोड़ दिया जाता है जिससे नदियों का पानी बहुत दूषित होता है और वो पिने योग्य भी नहीं रहता है।
  7. अब हम जल प्रदूषण के सांतवे कारण के बारे मे आपको बताते है और वो ये है की  कच्चे पेट्रोल जब निकलते है तो उसके निकलते समय वह समुद्र के पानी में मिल जाता है जो बहुत ही हानिककारक होता है यह भी एक वजह है जल प्रदूषण होने की।
  8. आइये अब हम जल प्रदूषण के अंतिम और आठवें कारण के बारे मे बात करते है कुछ ऐसे   जेहरीले कीटनाशक पदार्थ होते है जैसे डीडीटी और बीएचसी आदि जीना छिड़काव हमारे द्वारा कीटो को मरने के लिए किया जाता है जिसकी जवाह से जल दूषित हो जाता है फिर ये ही जल जानवर पीते है और इसी जल की वजह से मछलियों को मछलियों को भी नकसान होता है उनके लिए बहुत हानिकारक होता है इसके परिणाम स्वरूप पूरी खाद्य श्रृंखला प्रभावित हो जाती है जो अत्यंत हानिकारक है।

Latest Environment Handwritten Notes 

आइये अब हम आपको जल प्रदूषण से होने वाले दुष्परिणाम या प्रभाव के बारे में बताते है जो निम्न प्रकार से है। :-

  1. पहला दुष्परिणाम या प्रवभाव – जल प्रदूषण से मनुष्य तथा पशु पक्षियों में स्वस्थीय से सम्बंधित खतरा उत्पन्न हो जाता है जिसक वजह से से तरह तरह की बीमारिया और विकृतिया जैसे पीलिया हो जाना , टाइफाइड हो जाना हैजा हो जाना और गैस्टिक जैसी अनेको प्रकार की बीमारिया होने लगती है जो हमारे लिए बहुत नुकसानदायक है।
  2. दूसरा दुष्परिणाम या प्रवभाव –   जल प्रदुषण से सभी प्रकार जिव जन्तुओ और वनस्पति की प्रजातियों को को बहुत नुक्सान होता है ये भी बहुत दादा दुष्प्रभाव है।
  3. तीसरा दुष्परिणाम या प्रवभाव – जल प्रदुषण की वजह से नदियों और नहरों का पानी बहुत जयदा दूषित हो गया है और इतना ही नहीं जो पानी जमीं के अंदर यानि जमीं से निलने वाला पानी भी दूषित हो जाता है जो आने वाले समय में अत्यंत हानिकारक सिद्ध होगा हमारे लिए और इन सब की वजह से जो पानी हम पीते है वो भी दूषित हो गया है जिसे पिने के पानी की कमी आ गयी है।
  4. चौथा दुष्परिणाम या प्रवभाव – इन दूषित या घातक रासायनिक पदार्थो में मिले हुए पानी को पानी के द्वारा या फिर जो जिव जंतु पानी में रहते है जैसे की मछलियों को हमारे द्वारा खाने के  माध्यम से हमारे शरीर में आ जाते तो इसके कारण अत्यधीक गंभीर और जान लेवा बीमारिया हमें हो सकती है।
  5. पांचवा  दुष्परिणाम या प्रवभाव – दूषित पानी से हम लोग खेती करते है और एहि पानी खेती के जरिये और जल के माध्यम से पेड़ पोधो में चले जाते है और उन्ही फल फ्रूट और सब्जियों को हम खाते है जिसकी वजह से भिन्न भिन्न प्रकार की बीमारिया हो रही है कुछ तो ऐसी बीमारिया है जिनकी वजह से हमें जीवन में बहुत सारी कठिनाईओ का जीवन भर सामना करना पड़ता है।
  6. छठा दुष्परिणाम या प्रवभाव –  कुछ ऐसे सूक्ष्म और छोटे जिव होते है जो पानी में मिले हुए ऑक्सीजन के एक बाउट बड़ी मात्रा में अपने काम में लेते है उनका उपयोग करते है परन्तु जब पानी में जैविक द्रव्य बहुत अधिक मात्रा में हो जाता है जिसकी वजह से पानी में काफी मात्रा में कम ऑक्सीजन बचती है और वह जिव पूर्ण रूप से ऑक्सीजन का उपयोग नहीं कर पाते है जिसके परिणाम स्वरूप जो जिव जंतु पानी में रहते है वह ऑक्सीजन की कमी के कारण मर जाते है।
  7. सांतवा दुष्परिणाम या प्रवभाव – अद्योगो मेकिये जाने कार्यो के उत्पन्न हुए रासायनिक पदार्थ जैसे की क्लोरीन , अमोनिया ,हाइड्रोजन , निकल और जस्ता इतियादी बहुत ही विषैले पदार्थो में मिला हुआ होता है।
  8. आंठवा दुष्परिणाम या प्रवभाव -जैसा की हम सब जानते है की हम सभी जितना भी कूड़ा कचरा होता है उसको समुद्र में ही  आला जाता है और नदियों का दूषित पानी की अंत में जाकर समुद्र में ही मिलता है जिसकी वजह से समुद्र को हम लगातार दूषित होता ही रहता है  इसी संदर्भ में हमारे वैज्ञानिको ने हमें सचेत किया है और चेतावनी भी दी है की यदि भू मध्य सागर में यदी हम लोगो ने गंदगी और कूड़ा कचरा डालना बांड नहीं किया तो याद रखना इनमे रहने वाली डोल्फिन और टूना जैसे सुंदरी मछलिया का यह विशाल सागर बहुत ही जल्दी ही इनका समशान बन जाएगा मतलब की ये सब मर जाएंगी।
  9. नोवा व अंतिम दुष्परिणाम या प्रवभाव – आपने अकसर कुछ बीमारियों के बारे में सुना होगा जैसे की अंधापन हो जाना।, शरीर पर लकवा हो जाना , सांस लेने में तकलीफ इतियादी बीमारियों की कही न कही एक वजह ये ही हो सकती है और इसी पानी से हम कपडे भी धोते है नहाते भी हम इसी पानी से है तो ऐसे दूषित पानी  की वजह से हमें त्वचा से सम्बंधित बीमारिया का होना भी संभव है।

दोस्तों हमें अपनी इस पोस्ट में जल प्रदूषण के बारे में जाना इसके आगे के बिंदु अहम अपनी अगली पोस्ट में जानेगे 

Leave A Reply

Your email address will not be published.