fbpx

Geography MCQ PDF In Hindi Download

0

Indian Geography MCQ For UPSC PDF

Geography MCQ For UPSC PDF In Hindi :- जय श्री कृष्णा दोस्तों आज, आपके लिए Indian Geography MCQ in Hindi की PDF आज आपके लीये बहुत खाश होने वाली है। क्योंकी आज हमने Gography 500+ MCQ की PDF आपके लिए उपलब्ध करवाने जा रहे है जिसमे आप एक साथ Geography के 500 Question and answer एक ही जगह पर एक साथ में पढ़ कर याद कर सकते है। World Geography Objective Questions in Hindi PDF, World Geography MCQ PDF, Indian Geography MCQ In Hindi PDF Download इन PDF में Geography के बहुत शानदार और जरुरी MCQ दिए हुए है जिसके हमें विश्वाश है की ये आपके लिए रामबाण से भी रामबाण साबित हो सकते है।

500+World Geography MCQ PDF in Hindi

Geography Objective Question In Hindi PDF Download :- दोस्तों अगर आप हर रोज इसी तरह के पोस्ट पढ़ना चाहते है तो आप हमे साइट पर आ सकते है और पढ़ सकते है और ये Geography MCQ PDF For SSC CGL, Indian Geography Notes PDF, world geography mcq pdf in hindi को हमने आपके अभी जो एग्जाम चल रहे है या फिर जो एग्जाम आने वाले है। उन सभी को ध्यान में रहते हुए इन सभी में महत्वपूर्ण MCQ दिए हुए है। ये जो प्रश्न और उनके उतर दिए हुए है इनमे से कुछ ऐसे भी है जो की पिछली परीक्षाओ में कई बार पूछे जा चुके है। इस लिए आप सभी के लिए इन सभी को भी पढ़ लेना चाहिए और अच्छे से याद भी कर लेना चाहिए जिससे आपको इस बार कुछ फायदा मिल सके और आप एग्जाम में कुछ और अधिक नम्बर अर्जित कर सको।

World Geography Objective Questions in Hindi PDF

Geography MCQ PDF In Hindi Download

Geography Chapter Wise MCQ PDF In Hindi || Geography MCQ PDF Free Download

Geography (भूगोल) का सामाजिक विज्ञानो से सम्बन्ध के बारे में निम्न बिन्दुओ पर संक्षिप्त जानकारी 

भूगोल तथा अर्थशास्त्र का सम्बन्ध (Relationship Between Geography and economics)

  • जैसा की आप सब इस बात से परिचित है की मनुष्य की कुछ प्राथमिक आवश्यकताये है जिनमे भोजन करना, कपडा, और रहने की जगह ये सब प्रमुख है ये सभी आवश्यकताये सभी देशो के इंसानो के लिए बहुत महत्वपूर्ण और जरुरी है इनके बिना जीवन यापन करना बहुत मुश्किल या असंभव है। और अन्य जरुरी आवश्यकताये मनुष्य या उनके समूह के लिए काफी मायने रखती है जैसे की आर्थिक आवश्यकताये , सामाजिक आवश्यकताये और राजनैतिक आवश्यकताये आदि प्रमुख है और ये सभी अर्थवयवस्था पर निर्भर करती है या Economics पर आधारित होती है। अर्थशास्त्र का मूल या प्रमख विषय अर्थवयवस्था का अध्यन्न करना ही होता है जिसमे किसी स्थान के स्त्रोतों , क्षेत्र और जनसमुदाय के मुख्य स्त्रोतों या फिर उनके आर्थिक संसाधनों की वयवस्था , उनके संघठन और उनके प्रसाशन को ही अर्थवयवस्था कहा गया है भूगोल की एक विशिष्ट शाखा आर्थिक भूगोल में विविध आर्थिक पक्षों स्थानिक अध्ययन भूगोल में किया जाता है।

Relationship Between Geography and Sociology (भूगोल और समाजशास्त्र का सम्बन्ध)

  • समाज शास्त्र में मनुष्य के सामाजिक जवान की क्रिया , उनके व्यवहारो तथा उनके सामाजिक क्रियाओ के बारे मेंअध्यन्न किया जाता है की मानव समाज की उत्पत्ति कैसे हुई उनका विकास कैसे हुआ उनकी संरचना कैसे हुई तथा मनुष्यो के सामाजिक सस्थाओ आदि का अध्यन्न करना भी शामिल किया गया है यानी की इन सब तथ्यों का भी अध्यन्न किया जाता है मनुष्य के समाज के विकास की व्याख्या, प्रवृति की व्याख्या तथा नियमो की वैज्ञानिक व्याख्या समाजशास्त्र के अध्यन्न में सम्मलित है और समाजशास्त्र इनकी व्याख्या करता है तथा समाजशास्त्र में सभी मानवो को अनेको वर्गों में विभक्त तथा समूहों और समुदायों में विभक्त किया गया है ताकि उनका सही से अध्यन्न किया जा सके और इन सभी वर्गों, समूहों और समुदायों इन सभी के भिन्न भिन्न प्रकार के अपने अपने नियम, रीतिरिवाज तथा प्रथाएं होती है तथा इन सभी पर भौगोलिक पर्यावरण का प्रभाव मुख्य रूप से देखने को मिलता है। इससे यह साबित होता है की समाजशास्त्रीय अध्ययनों में भौगोलिक ज्ञान का होना अतिआवश्यक माना गया है।

Geography PDF

भूगोल और इतिहास का सम्बन्ध (Relationship Between Geography and History)

  • किसी भी चाहे वह कोई देश हो या कोई प्रदेश हो इनके इतिहास पर उस जगह के भौगोलिक पर्यावरण का गहरा प्रभाव और परिस्थितियों का गहरा प्रभाव देखने को मिलता है। मानव भूगोल में मनुष्य की सभ्यता मनुष्य के इतिहास तथा मनुष्य समाज के विकास का अध्यन्न भगौलिक परिपेक्ष्य में किया जाता है मनुष्य के मानवीय, सांस्कृतिक तथा मनुष्यो के प्राकृतिक इन सभी मुख्य तथ्यों का विकास का विश्लेषण विकास के दृश्टिकोण को ध्यान में रखते हुए किया जाता है। येहो वजह की मानव तथा पृथ्वी में होने वाले परिवर्तनशील सम्बन्धो का सही और पूर्ण रूप से स्पस्टीकरण हो पाता है। मानव भूगोल में किसी प्रदेश की जनसँख्या का अध्ययन, पशुपालन का अध्ययन, कृषि का अध्ययन, परिवहन के साधनों का अध्ययन और व्यवसायो का अध्ययन, वाणिज्कि संस्थाओं का अध्ययन इतियादी के ऐतिहासिक विकास का शामिल है और इन सब के लिए जरुरी साक्ष्य और सुबूत हमें इतिहास से ही मिलते है

भूगोल और राजनीति विज्ञान का सम्बन्ध (Relationship Between Geography and Political Science)

  • शासन व्यवस्था यह राजनीति विज्ञान के अध्ययन का केन्द्र बिन्दु माना गया है इस अध्यन्न में भिन्न भिन्न राष्ट्रो और भिन्न भिन्न राज्यों में पायी जाने वाली शासन प्रणालियों का अध्ययन, सरकारों का अध्ययन, अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का अध्ययन इतियादी बिन्दुओ का अध्ययन किया जाता है।मनाव भूगोल को राजनैतिक भूगोल के शाखा माना गया है जिसमे भिन्न भिन्न अध्यन्न होता है जैसे की राजनीतिक रूप से संगठित क्षेत्रों की सीमा का अध्यन्न करना, तथा उनके विभिनन घटकों का अध्यन्न करना, संसाधनों का अध्यन्न करना, आंतरिक राजनीतिक संबंधों का अध्यन्न करना तथा विदेशी राजनीतिक संबंधों इतियादी अनेको प्रकारो का अध्ययन किया जाता है मानव भूगोल की एक और अन्य शाखा जिसको भूराजनीति के नाम से भी जाना जाता है इस अन्य शाखा में भूतल के भिन्न भिन्न प्रदेशो के राजनैतिक प्रणाली और खाश कर के अंतर्राष्ट्रीय राजनीति पर भौगोलिक कारको से होने वाले प्रभावों का के बारे में समीक्षा की जाती है

भूगोल और जनांकिकी का सम्बन्ध  (Relationship Between Geography and Demography)

  • इस संबंघ में जनसँख्या के आकार का अध्यन्न, संरचना का अध्यन्न तथा विकास इतियादी का अध्यन्न जनसांख्यिकी के अंतर्गत परिमाणात्मक अध्ययन होता है। इसमें बहुत से बिन्दुओ जैसे की जनसँख्या के आंकड़ों को एकत्रित करना उनका वर्गीकरण करना , वर्गीकरण के बाद उनका मूल्यांकन करना, फिर उनका विश्लेषण करना तथा उनकी प्रक्रियाओं की व्याख्या करना आदि सम्मिलित किया जाता है और इसके साथ ही मनुष्य भूगोल में उपशाखा जनसंख्या भूगोल और उनके प्रतिरूपों में मिलने वाली क्षेत्रीय वीभिन्नताओं का अध्ययन होता है। इस वजह से भूगोल और जनांकिकी (Geography and Demography) में काफी गहरा और महत्वपूर्ण सम्बन्ध देखने को मिलता है

500+ Geography PDF In Hindi 

Leave A Reply

Your email address will not be published.