fbpx

Indian Economy Notes In Hindi For UPSC | भारतीय अर्थव्यवस्था नोट्स

0

Indian Economy Notes For Competitive Exams

Handwritten Notes of Economics for UPSC In Hindi :- हेलो, आज हम अर्थशास्त्र के इस शानदार लेखा में Indian Economy Notes in Hindi, Economics Notes In Hindi For UPSC, और भारतीय अर्थव्यवस्था notes 2021, UPSC Economy Handwritten Notes के बारे में बात करेंगे। क्योकि काफी लम्बे समय से हमने इस विषय के बारे में बात नहीं की और न ही हमने Economics विषय पर कोई लेख लिखा है इस लिए हमने आपके लिए इस विषय के बारे में कुछ हस्तलिखित नोट्स आपके लिए इस लेख में संलग्न किये है। Economy Notes, Economy Notes For UPSC 2021 लाये है जिसमे हस्तलिखित नोट्स के माद्यम से आपको बहुत कुछ नयी नयी जानकारिया मिल सकेगी।

Indian Economy Handwritten Notes In Hindi

Economics Notes For UPSC 2020:- साथियो आज भारतीय अर्थव्यवस्था नोट्स in Hindi, Class 12 Economics Handwritten Notes यानि की हस्तलिखित नोट्स इसमें भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे बहुत जानने योग्य जानकारिया उलपब्ध करवाई है और भारत की GPD और PPP के बारे में भी आपको बताया हुआ है। GDP में भारत का विश्व में स्थान कोनसा है स्थान है PPP का भारतीय अर्थव्यवस्था का विश्व में कोनसा स्थान है। नोटेबंदी के बाद देश की अर्थव्यवस्था की क्या स्थति रही नोटेबंदी से देश की GDP पर क्या प्रभाव पड़ा सभी की संक्षिप्त में जानकारी दी गयी है । और ये सभी बहुत महत्वपूर्ण हस्तलिखित नोट्स तथा साथ में PDF भी आपके परीक्षाओ में। और हमें उम्मीद भी है इस बात की ये सभी आपके अत्यंत फायदेमंद होगा । 

अर्थशास्त्र नोट्स Class 12 

Indian Economic Notes 

Indian Economy Notes In Hindi For UPSC | भारतीय अर्थव्यवस्था नोट्स

Indian Economics Notes in Hindi

भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में संक्षिप्त में हस्तलिखित नोट्स के माध्यम से जानकारी

Economics Handwritten Notes In Hindi 

भारत में भारतीय अर्थवयवस्था को मध्यम आय विकाशशील बाजार अर्थव्यवस्था के रूप माना जाता है तथा नॉमिनल जीडीपी (GDP) के हिसाब से भारतीय अर्थव्यवस्था को दुनिया की सासबसे बड़ी छट्टी अर्थव्यवस्था माना गया है तथा क्रय शक्ति समता (PPP) के हिसाब से भी भारतीय अर्थव्यवस्था को तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।तथा अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष “आईएमएफ” (International Monetary Fund) के अनुसार यदि प्रति व्यक्ति की आय के आधार पर भारतीय या भारत जीडीपी (GDP) जो की नाममात्र है इसके आधार पर 145 वी तथा जीडीपी (PPP) के द्वारा 122 वा स्थान प्राप्त है। सन 1947 में स्वतंत्रता से सन 1991 तक क्रमिक सरकारों (Successive Governments) ने व्यापक राज्य हस्तक्षेप (Extensive State Intervention) तथा Economic Regulation (आर्थिक विनियमन) के साथ Protectionist Economic Policies (संरक्षणवादी आर्थिक नीतियों) को बढ़ावा दिया गया था ।

भारतीय अर्थव्यवस्था Notes

सन 1991 में जब शीत युद्ध समाप्त हुआ था और भुगतान संतुलन संकट में पड़ गया था। इसके कारण भारत (India) में Macroeconomic Liberalization (व्यापक आर्थिक उदारीकरण) को अपनाया गया था तथा इसके बाद जब 21 वी सदी की सुरुवात हुई और तब से ही Annual Average Gross Domestic product (वार्षिक औसत सकल घरेलू उत्पाद) की वृद्धि की गयी जो इस प्रकार है 6% से लेकर 7% तक रही है। तत्पश्चात सन 2013 से लेकर के सन 2018 तक भारत (India) ने चीन को पछाड़ते हुए भारत (India) दुनिया (World’s) की सबसे तेज गति से बढ़ने वाली प्रमुख अर्तव्यवस्था बन गया था। ऐतिहासिक रूप से भारत पहले से ही 19 वी सताब्दी तक दो सहस्राब्दियों (millennia) में से ज्यादातर के लिए दुनिया (World’s) की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था (Economy) था ही।

Indian Economic 

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) का दीर्घकालिक विकास परिप्रेक्ष्य इसकी (Young) युवा आबादी तथा ये ही कम निर्भरता अनुपात वहारत में बढ़ते वैश्वीकरण और वैश्विक अर्थव्यवस्था तथा स्वस्थ बचत तथा निवेश दरों से भारत में बढ़ते Globalization And The Global Economy (वैश्वीकरण और वैश्विक अर्थव्यवस्था) में एकीकरण के चलते ही सकारात्मक बना है। इसके बाद सन 2016 में दिए गए नोटेबंदी के झटके तथा उसके बाड़ा सन 2017 में Goods And Services (माल और सेवा) करो की सुरुवात हो जाने के कारण सन 2017 में अर्थव्यवस्था की रफ़्तार काफी धीमी हो गयी। हमारे भारत में Gross Domestic Products (सकल घरेलु उत्पादों) का लगभग 60 % तो Domestic Personal Consumption (घरेलु निजी खपत) से ही संचालित होता है।

अर्थव्यवस्था नोट्स 

भारत (India) उपभोक्ता बाजार में दुनिया का छठा सबसे बड़ा Consumer Market (उपभोक्ता बाजार) बना हुआ है। भारत में हमारे निजी खपत के अलावा भारत के सकल घरेलु उत्पाद को Government Spending (सरकारी खर्च), investment (निवेश) तथा export (निर्यात) करने में भी काफी बढ़ावा मिलता है सायद आपको पता होगा की सं 2019 में भारत देश दुनिया का आयातक में नोवा सबसे बड़ा तथा निर्यातक में बाहरवा सबसे बड़ा देश था। तथा 1 January 1995 में World Trade Organization (विश्व व्यापार संगठन) का सदस्य के रूप में रहा है।

Economics Handwritten Notes in Hindi For Sarkari Exams

भारतीय अर्थव्यवस्था book – देश भारत में 500 मिलियन श्रमिक है इन 500 मिलियन श्रमिकों के साथ के कारण भारतीय श्रम शक्ति सन 2019 तक दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी श्रम शक्ति थी। आपको ये जानकार हैरानी होगी की भारत अरबपतियों और अत्यधिक आय असमानतामें दुनिया के सबसे अधिक में से एक रहा है क्युकी भारत देश में एक विशाल अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में रही है इसका कारण ये है की भारत में बहुत ही कम लोग आयकर का भुगतान करते है जो की 2% ही है।

अर्थव्यवस्था नोट्स | भारतीय अर्थव्यवस्था के शानदार नोट्स 

हम उम्मीद करते है अपने हमारे इस लेख को पूरा पढ़ा होगा इस इस लेख में आपको बहुत सारी महत्वपूर्ण जानकारिया प्राप्त हुई होगी जो दयाद आपको पहले पता नहीं होगी या जिसके बारे में आपको अभी तक कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई होगी। तो आज आपको वो सभी जानकारिया प्राप्त हो गयी होगी। और आपके नॉलेज में भी कुछ वृद्धि हुई होगी। और हम जल्दी से जल्दी और भी नयी नए अपडेट आप तक पहुंचने की कोसिस भी करते रहेंगे। जिससे आपको ऐसे ही अनेको प्रकार की नयी नहीं सूचनाएं मिल पाए ।

इसके लिए आपको हर रोज ऐसे ही इन लेखो को पड़ते रहना होगा । क्यों की बिना पढ़े तो आपको कोई भी जानकारी नहीं हो पायेगी । तो हम आपके सोच को सोचकर ही ऐसे ही नोट्स बनाते रहेंगे। और अगर आप कुछ और नयी जानकारिया की जरूरत है तो आप हमें बता सकते है। हम जल्दी से जल्दी उस पर भी लेख आपके लिए बना देंगे। जिससे आपकी डिमांड पूरी की जा सके। और आप हमरी सेवाओं से संतुष्ट हो सके । हमरी येहो कोसिस रहेगी की हम आपके लिए कुछ कर पाए ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.